संप्रदाय विशेष ने पूर्णिया में दलितों के फूंक दिए मकान! अब इंसाफ मिलेगा? बड़ा सवाल

0 546

Purnia Dalit Kand- पूर्णिया के मुस्लिम बाहुल इलाके baisi में बीते दिनों दलितों के घर फूंके जाने का मामला अब राजनीतिक रंग पकड़ने लगा है। कल भाजपा नेता दिलीप जायसवाल और कृष्ण कुमार ऋषि ने पीड़ित परिवार से मिलकर सरकार से स्पीडी ट्रायल करके अपराधियों पर त्वरित कारवाई करने का आग्रह किया है।

अमूमन ऐसे मामलों में देखा गया है है कि घटना हो जाने के बाद नेता अपनी राजनीतिक पृष्ठभूमि को मजबूत करने के लिए बयानबाजी करते है और पीड़ित परिवार से मिलकर संवेदना जाहिर करते है। लेकिन इन सब के बीच अगर कुछ नही होता है तो वो है इंसाफ।

बड़ा सवाल है की पूर्णिया के दलितों को इंसाफ मिल पाएगा। क्या फिलिस्तीन और इजराइल विवाद पर आंसू बहाने वाले नेता पूर्णिया मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ेंगे। बहरहाल, ये तो आने वाला वक्त बताएगा की ये मामला भी अन्य घटनाओं की तरह राजनीति की भेंट चढ़ जाएगा या फिर दोषियों पर कड़ी कार्रवाई होगी….

पहले पूरा मामला विस्तार से आपको बताते हैं।

क्या हुआ था उस रात बायसी में..

बिहार के पूर्णिया जिले के बायसी थाना के खपड़ा पंचायत के अंतर्गत मझुवा गांव में संप्रदाय विशेष की भीड़ ने जमकर उत्पात मचाया। इस भीड़ का कहर महादलित बस्ती पर टूटा। भीड़ में शामिल लोगों ने न केवल दर्जन भर से ज्यादा घरों में आग लगा दी, बल्कि चौकीदार को पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया।

वहीं, घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल विभाग के कर्मचारियों ने आग पर बामुश्किल काबू पाया। लगभग 150 लोगों की भीड़ ने बस्ती को चारों ओर से घेर लिया।

जानकारी के अनुसार दिन में भी थोड़ी कहासुनी और मारपीट हुई थी, लेकिन उस समय पुलिस प्रशासन ने आकर बीच बचाव करा दिया। लेकिन रात में करीब साढ़े ग्यारह बजे आसपास के गांवों से लगभग 150 लोगों की भीड़ वहां पहुंची और बस्ती को चारों ओर से घेर लिया। एक अन्य चौकीदार भरत राय की मानें तो भीड़ में से अधिकांश लोगों के हाथों में पेट्रोल का गैलन था। जिसके बाद भीड़ ने हल्ला बोल दिया। भीड़ में शामिल लोग घरों पर पेट्रोल डालते गए और आग के हवाले करते गए। जब लोग जलते घरों से निकलकर भागे तो भीड़ ने उनको भी निशाना बनाया। हथियारों से लैस आरोपियों के हमले से बस्ती के कई लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। एक व्यक्ति की मौत हो गई। 20 से 25 लोग घायल बताए जा रहे हैं।

 

चौकीदार ने बताया कि हमले में आई गहरी चौटों की वजह से एक व्यक्ति की मौत हो गई। जबकि 20 से 25 लोग घायल हो गए। घायलों को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। चौकीदार के मुताबिक भीड़ में सभी लोग संप्रदाय विशेष के थे। वहीं, अंबेडकर सेवा समिति के कार्यकारी अध्यक्ष इंद्रदेव पासवान ने इस मामले में पुलिस से गिरफ्तारी की मांग की है।

Loading...

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Leave A Reply