सितम्बर में दूसरी बार भारत बंद, जानिए किन पार्टियों का हैं बंद को समर्थन, कौन सी पार्टी नहीं लेगी हिस्सा

0 892

केंद्र की एनडीए सरकार को विभिन्न मुद्दों पर घेरने के लिए प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस ने 10 अप्रैल सोमवार को भारत बंद का आवाहन किया है। कांग्रेस का दावा है कि इस बंद को लगभग 21 दलों का समर्थन हासिल है। द्रमुक, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सहित कई पार्टियों ने इस बंद का समर्थन किया है। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने भी बंद का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि उनकी पार्टी जनता दल सेकुलर इस बंद का समर्थन करती है। उन्होंने बाकी बची पार्टियों से भी बंद को समर्थन करने की अपील की है। वामदल ने इसी दिन अलग से बंद का आह्वान किया है।

कांग्रेस के मुताबिक समाजवादी पार्टी , बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, डीएमके, राष्ट्रीय जनता दल, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, जनता दल सेक्युलर, राष्ट्रीय लोकदल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, एमएनएस और कई अन्य दल समर्थन कर रहे हैं।

जानकारी के मुताबिक देश भर में होने वाला ये बंद सुबह 9 बजे से दोपहर के 3 बजे तक चलेगा।

कांग्रेस ने भारत बंद बुलाने के पीछे की वजह बताते हुए कहा कि इंधन की कीमतों और एक्साइज ड्यूटी में बढ़ोत्तरी बताई। विपक्ष ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ भाजपा सरकार ने आम आदमी का जीना मुहाल कर दिया है। राज्यों में एक्साइज ड्यूटी और अत्यधिक वैट को तत्काल कम करना चाहिए। पेट्रोल और डीजल को भी जीएसटी में लाना चाहिए। सुरजेवाला ने दावा किया कि 2014 के मुकाबले पेट्रोल और डीजल की कीमतें करीब 50 फीसदी बढ़ी हैं। पेट्रोल और डीजल पर एक्साइज ड्यूटी क्रमश: 211 और 443 फीसदी बढ़ गया है।

आप, तृणमूल, शिवसेना, बीजद ने बंदी से बनाई दूरी

दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को स्पष्ट किया कि वह कांग्रेस द्वारा आहूत सोमवार के भारत बंद में शामिल नहीं होगी। ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा, “मुद्दा सही है, लेकिन कांग्रेस को ईंधन मूल्य वृद्धि और भारतीय रुपये में गिरावट के मुद्दे पर कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

तृणमूल कांग्रेस ने भारत बंद से दूरी बना ली है. पार्टी ने कहा कि वह पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी जैसे मुद्दों को उठाती रहेगी, लेकिन विपक्षी पार्टियों के 10 सितंबर के भारत बंद को अपना समर्थन नहीं देगी।

ओडिशा में सत्ताधारी बीजू जनता दल (बीजद) ने रविवार को कहा कि वह कांग्रेस की तरफ से सोमवार को आहूत भारत बंद का समर्थन नहीं करेगा. पार्टी ने हालांकि कहा कि वह ईंधन कीमतों में वृद्धि के खिलाफ है।

महाराष्ट्र, बिहार, कर्नाटक, ओडिशा, तमिलनाडु जैसे राज्यों में जहां क्षेत्रीय दल ने भारत बंद का समर्थन किया है, वहां इसका असर दिखने की संभावना है। एहतियात के तौर पर कई राज्यों में स्कूल बंद कर दिए गए हैं। इन राज्यों में बंद के दौरान प्रसाशन की मुस्तैद नज़र रहेगी।

सुबह 9 बजे के बाद नहीं मिलेगा पेट्रोल-डीजल

देश के कई शहरों में पेट्रोल पंप मालिकों ने भारत बंद के दौरान पम्प बंद रखने का फैसला किया है.

2 सितंबर को सवर्णों ने भी किया था भारत बंद
सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ केंद्र की मोदी सरकार द्वारा SC/ST एक्ट में किए गए संशोधन के विरोध को लेकर कुछ सवर्ण संगठनों द्वारा 6 सितम्बर को ‘भारत बंद’ (Bharat Bandh) बुलाया गया था। बंद का सबसे ज्‍यादा असर मध्‍य प्रदेश, उत्‍तर प्रदेश और बिहार में देखने को मिला।

Loading...

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Leave A Reply