अब वाइट फंगस का बढा खतरा, जाने कैसे लेता है जान

0 224

कोरोना महामारी के बीच फंगल संक्रमण का कहर भी जारी है। कई राज्यों में एक के बाद एक ब्लैक फंगस (Black Fungus) के ढेरों मरीजों के आने के बाद केंद्र सरकार ने प्रभावित राज्यों में इसे महामारी घोषित करने को कहा है । राज्य सरकार भी अपने राज्य में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इसे महामारी घोषित कर रही है । अभी ब्लैक फंगस का इलाज सही से मिला भी नही था कि एक नया फंगल इन्फेक्शन ” वाइट फंगस ” भी अपना प्रभाव मरीजों में दिखने लगा है । विशषज्ञों के मुताबिक ये नया संक्रमण ब्लैक फंगस से भी ज्यादा खतरनाक है क्योंकि ये केवल एक अंग नहीं, बल्कि फेफड़ों और ब्रेन से लेकर हर अंग पर असर डालता है।

 

अंगों को पहुँचता है भारी नुकसान

चिकित्सकीय भाषा में इसे कैंडिडा कहते हैं, जो रक्त के जरिए होते हुए शरीर के हर अंग को प्रभावित करता है. ये नाखून, स्किन, पेट, किडनी, ब्रेन, प्राइवेट पार्ट और मुंह के साथ फेफड़ों को संक्रमित कर सकता है. हालांकि इस फंगस से प्रभावित जो मरीज आ रहे हैं, उनके साथ जरूरी नहीं कि वे कोविड से संक्रमित हों। हालांकि लंग्स पर असर होने के कारण उनके लक्षण कोरोना से लगभग मिलते-जुलते होते हैं, जैसे सांस फूलना या कई बार सीने में दर्द।

संक्रमण अगर शरीर के जॉइंट्स पर असर करे तो उनमें दर्द होने लगता है। ब्रेन तक पहुंचा तो सोचने विचारने की क्षमता पर असर दिखता है. मरीज जल्दी फैसला नहीं ले पाता और बोलने में भी दिक्कत होने लगती है। इसके अलावा सिर में तेज दर्द के साथ उल्टियां हो सकती हैं। स्किन में रक्त के जरिए फैलने पर छोटे-छोटे फोड़े हो सकते हैं, जो आमतौर पर दर्दरहित होते हैं।ये संक्रमण का शुरुआती लक्षण है ।


तब बढ़ जाता है खतरा

फेफड़ों पर असर होने पर कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर कई बार लोग बगैर जांच के खुद को कोरोना संक्रमित मान लेते हैं और घर पर ही दवाएं करने लगते हैं, इससे हालात बिगड़ जाते हैं। संक्रमण शरीर के मुख्य अंगों को अपनी चपेट में ले लेता है और मरीज की ऑर्गन फेल होने से मौत भी हो सकती है।

ब्लैक फंगस से ज्यादा खतरनाक

जिन लोगों की इम्युनिटी कमजोर होती है, उन्हें ये संक्रमण हो सकता है अगर वे संक्रमित वनस्पतियों या फिर दूषित पानी के संपर्क में आएं। इसके अलावा कोविड संक्रमित गंभीर मरीज, जिन्हें ऑक्सीजन चढ़ाई जा रही हो, उन्हें भी संक्रमण हो सकता है, अगर नाक या मुंह पर लगे उपकरण फंगलयुक्त हों। इसके अलावा उन लोगों में इसका खतरा ज्यादा रहता है जो डायबिटीज के मरीज हैं, या फिर लंबे समय तक स्टेरॉयड ले रहे हैं।

Loading...

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Leave A Reply