आखिर इस युवा पत्रकार को क्यों लिखना पड़ा ‘मीडिया में भी ओवैसी हैं, एक नहीं कई’

अब तक जब भी किसी मुस्लिम या दलित की मौत हुई, मीडिया ने उसे धर्म-जाति के हिसाब से ही देखा, लिखा और सबको देखने पर मजबूर किया है लेकिन कभी हिन्दू की हत्या लिखने का साहस नहीं किया…। 26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा में शामिल चंदन गुप्ता की मुस्लिम युवक ने गोली मार … Continue reading आखिर इस युवा पत्रकार को क्यों लिखना पड़ा ‘मीडिया में भी ओवैसी हैं, एक नहीं कई’