लोकसभा 2019 : मुंगेर लोकसभा सीट से अनंत सिंह की पत्नी नीलम सिंह होंगी महागठबंधन की उम्मीदवार!

0 35

पिछले दो महीने से बिहार की सियासत में सबसे ज्यादा चर्चा में रही मुंगेर लोकसभा सीट से अनंत सिंह की पत्नी नीलम सिंह महागठबंधन की और से कांग्रेस के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगी। बिहार के अग्रणी न्यूज़ पोर्टल पटना लाइव की खबर के मुताबिक कांग्रेस पार्टी रविवार को इसकी औपचारिक घोषणा कर सकती है। बीते कुछ दिनों से अनंत सिंह की दावेदारी को लेकर बिहार के सियासत की गलियों में अफवाहों का बाज़ार गरम था। मुंगेर लोकसभा सीट पर जदयू ने राजीव रंजन उर्फ़ ललन सिंह को महागठबंधन के प्रत्याशी के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारा है।

Image Source : Patna Live

गौरतलब है की मोकामा विधायक अनंत सिंह ने साल की शुरआत में हीं मुंगेर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने का एलान कर खलबली मचा दी थी। मीडिया के कैमरे के सामने अनंत सिंह ने ताल ठोकते हुए कहा था कि मुंगेर लोकसभा सीट पर जो भी प्रत्याशी उनके विरोध में खड़ा होगा उसकी जमानत जब्त हो जाएगी। साथ ही अनत सिंह ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर मौकापरास्त होने का आरोप लगाया था। अनंत सिंह के एलान के बाद से ही ये कयास लगाए जाने लगे थे कि अनंत महागठबंधन के तरफ से ही चुनाव लड़ेंगे। अनंत ने खुद भी खुलकर कांग्रेस से चुनाव लड़ने की इच्छा जताई थी।
पटना में कांग्रेस की जनाकांक्षा रैली में भी अनंत सिंह ने अपना दम राहुल गाँधी को दिखाया था। गाँधी मैदान में आयोजित रैली में अनंत सिंह हज़ारों कार्यकर्त्ता के साथ पहुंचे थे

मुंगेर लोकसभा का गणित

साल 2011 की जनगणना के मुताबिक यहां की जनसंख्या 27,17,527 है, जिसमें से 78 प्रतिशत आबादी गांवों में रहती है और 21 प्रतिशत लोग शहरों में रहते हैं। मुंगेर संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत विधानसभा की 6 सीटें आती हैं। 1952, 1957, 1962, 1971 के संसदीय चुनावों में कांग्रेस ने यहां जीत दर्ज की लेकिन 1977 के चुनावों में जनता पार्टी ने उसके विजय रथ को रोक दिया था और श्री कृष्ण सिंह यहां से एमपी बने थे। साल 1980 और 1984 में यहां फिर से कांग्रेस का ही राज रहा था। 1989 के चुनाव में यहां जनता दल जीती थी तो वहीं 1991 में यहां सीपीआई का खाता खुला और ब्रह्मानंद मंडल यहां से सांसद बने।

साल 1996 के चुनावों में एक बार फिर से सांसद की सीट ब्रह्मानंद मंडल को नसीब हुई लेकिन इस बार उन्होंने समता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा था। साल 1998 के चुनावों में यहां राजद का शासन रहा लेकिन इसके एक साल बाद हुए चुनाव में ये सीट फिर से ब्रह्मानंदन मंडल के पास चली गई लेकिन इस बार उन्होंने जेडीयू के टिकट पर चुनाव जीता था। साल 2004 के चुनाव में एक बार फिर से यहां राजद जीती लेकिन साल 2009 के चुनाव में जेडीयू ने उससे अपनी हार का बदला ले लिया और राजीव रंजन उर्फ लल्लन सिंह यहां से एमपी चुने गए लेकिन साल 2014 के चुनाव में यहां बाजी पलट गई और लोजपा ने यहां जीत के साथ खाता खोला और वीणा देवी यहां से सांसद चुनी गईं।

Source Patna Live
Loading...
Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

Leave A Reply