Good News – नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी का हुआ उद्घाटन, फ्री में पढ़ सकतें हैं 1.70 करोड़ किताबें

312

भारत को डिजिटल देश बनाने की दिशा में केंद्र सरकार ने एक और पहल की है। केन्‍द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने नई दिल्‍ली में राष्‍ट्रीय पठन-पाठन दिवस के अवसर पर भारतीय राष्‍ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी लांच की। आईआईटी खड़गपुर ने भारतीय राष्‍ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी को विकसित किया है।

एनडीएल भारत तथा विदेशों के शिक्षा संस्‍थानों से अध्‍ययन सामग्री एकत्र करने का एक प्‍लेटफॉर्म है। यह एक डिजिटल पुस्‍तकालय है, जिसमें पाठ्य पुस्‍तक, निबंध, वीडियो-आडियो पुस्‍तकें, व्‍याख्‍यान, उपन्‍यास तथा अन्‍य प्रकार की शिक्षण सामग्री शामिल है।

इस अवसर पर अपने संबोधन में जावेड़कर ने कहा कि इस डिजिटल लाइब्रेरी को देश के लिए समर्पित करने के साथ ही डिजिटल भारत के एक नये युग की शुरूआत हो गई है। कोई भी व्‍यक्ति, किसी भी समय और कहीं से भी राष्‍ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी का उपयोग कर सकता है। यह सेवा नि:शुल्‍क है और ‘पढ़े भारत, बढ़े भारत’ के संदर्भ में सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

श्री जावडेकर ने बताया कि एनडीएलआई में 200 भाषाओं में 160 स्रोतों की 1.7 करोड़ अध्‍ययन सामग्री उपलब्‍ध है। लाइब्रेरी में आईआईटी, एनआईटी, जेईई और केंद्रीय संस्थानों में प्रवेश  परिक्षा पास करने के अलावा 20 अलग प्रतियोगिता परीक्षा में सफल होने के लिए अच्छी किताबे हैं। नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी से जुड़ने के लिए आपको इसकी वेबसाइट एनडीएल.आइआइटीकेजीपी.एसी.इन पर लोगीन करके रजिस्टर करना होगा। लाइब्रेरी में अब तक 30 लाख यूजर का रजिस्ट्रेशन हुआ है।

गौरतलब हैं कि एनडीएल वेबसाइट के अलावा मोबाइल एप पर भी उपलब्‍ध है। एनडीएलआई मोबाइल एप पूरे देश के पुस्‍तकालयों और यहां तक कि विदेशी पुस्‍तकालयों को डिजिटल सामग्री उपलब्‍ध कराता है। इस एप को 6.70 लाख बार डाउनलोड किया गया है। यह एप आईफोन और एंड्रायड दोनों में उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्‍ध है। अभी यह एप तीन भाषाओं में उपलब्‍ध है-अंग्रेजी, हिंदी और बांग्‍ला।

एनडीएलआई की साइट के लिए www.ndl.gov.in पर विजिट कर सकते हैं।

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Loading...

Leave A Reply