बंधन बैंक के नए ब्रांच खोलने पर RBI ने लगाई रोक

41

रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने बंधन बैंक पर बड़ी कार्रवाई करते हुए बैंक की नयी शाखा खोलने पर शुक्रवार को रोक लगा दी।साथ ही बैंक के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी चंद्र शेखर घोष का वेतन-भत्ता फिलहाल बढाने पर भी रोक लगा दी है।

आरबीआई की मंजूरी के बिना कोई नई ब्रांच नहीं खोल पाएगा बैंक 

बंधन बैंक ने बताया कि आरबीआई ने हमें सूचित किया है कि बैंक अभी तक NOFHC की शेयरहोल्डिंग को घटाकर 40 फीसदी पर लाने में सक्षम नहीं हुई है। इसलिए नई ब्रांचेस खोलने के लिए दी गई अनुमति वापस ली जाती है। बंधन बैंक लाइसेंस जारी किये जाने के नियमों के मुताबिक नॉन ऑपरेटिव फाइनेंशियल होल्डिंग कंपनी की शेयरधारिता कम करके 40 फीसदी नहीं कर पाया। बैंक अब केंद्रीय बैंक के पूर्व अनुमोदन से ही नयी शाखायें खोल सकता है। बैंक का कहना है कि वह लाइसेंस की शर्तों के अनुपालन के लिये जरूरी कदम उठा रहा है।

दरअसल, आरबीआई की लाइसेंसिंग शर्तों के मुताबिक एक प्राइवेट बैंक को अपने ऑपरेशन्स के 3 साल के अंदर अपने प्रमोटर की शेयरहोल्डिंग 40 फीसदी करनी होती है। इससे पहले बंधन बैंक एक माइक्रो फाइनेंस संस्था थी और इस साल 23 अगस्त को बंधन बैंक 3 साल पूरे करने वाला भारत का सबसे नया प्राइवेट बैंक बना है। वहीं इस साल मार्च में बंधन बैंक ने पब्लिक ऑफरिंग की शुरुआत भी की थी। जिसके बाद प्रमोटर की शेयरहोल्डिंग 89.62 प्रतिशत से गिरकर 82.28 प्रतिशत हो गई।

देश में हैं 937 ब्रांच

बैंक की वेबसाइट के मुताबिक, देश के विभिन्न हिस्सों में उसकी ब्रांचेस की संख्या 937 है। आरबीआई ने अप्रैल, 2014 में बंधन बैंक को एक यूनिवर्सल बैंक खोलने के लिए सशर्त मंजूरी दी थी। बैंक 2015 में ऑपरेशन में आ गया था। कोलकाता हेडक्वार्टर वाले बंधन बैंक ने 2001 में माइक्रो फाइनेंस कंपनी के तौर पर शुरुआत की थी।

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time

Leave A Reply