जानिए कंप्यूटर क्या है (What is Computer)…

140

आज के तकनीक के दौर में कंप्यूटर के बिना दुनिया की परिकल्पना करना भी मुश्किल है। इंसान को लगभग हरेक कार्य के लिए कंप्यूटर की मदद लेनी हीं पड़ती है। Computer मानव द्वारा बनाया एक अत्यंत उपयोगी एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है।

Computer ने हमारे दैनिक जीवन को काफी प्रभावित किया है, चाहे घर हो या स्कूल, कॉलेज, ऑफिस , हॉस्पिटल, बैंक एवं डिजाइन संस्थान, इत्यादि प्रत्येक क्षेत्र में हम इसकी उपस्थिति का अनुभव कर सकते हैं।

Computer शब्द की उत्पत्ति Compute शब्द से हुई है जिसका मतलब है गणना करना। Computer को आमतौर पर एक गणना करने वाली डिवाइस माना गया है जो बहुत तेजी से ऐरीथमैटिक ऑपरेशंस को पूरा कर सकती है।

Computer की Full Form जो काफी लोकप्रिय और अर्थपूर्ण है।

C – Common
O – Operating
M – Machine
P – Particularly
U – Used in
T – Technology
E – Education and
R – रिसर्च

आधुनिक कंप्यूटर का जनक
Charles Babage को आधुनिक कंप्यूटर का जनक माना जाता है। उन्होंने ही सबसे पहले Analytical Engine सन 1837 में निकला था। उनके इस engine में ALU, Baisc Flow control और Integrated Memory की concept लागु की गयी थी। इसी model पे ही Base करके आजकल के कंप्यूटर को design किया गया। इसी कारन उनका योगदान सबसे ज्यादा है। तभी उनको कंप्यूटर के जनक के नाम से जाना जाता है।

Computer के प्रकार
1. एनालॉग Computer
2. डिजिटल Computer
एनालॉग Computer

यह ऐसी सूचनाओं को Handle करते हैं जो प्राकृतिक की होती है जैसे तापमान, दबाव आदि। ये एनालॉग या समकक्ष भौतिक मानो को मापने पर आधारित होती है।

डिजिटल Computer

यह एसी सूचनाओ को प्रोसेस करते हैं जो अनिवार्य रूप से Binary याtwo State Form में होती है। जैसे ‘0’ और ‘1’ । जब हम Computer की बात करते हैं तो हम आम तौर पर डिजिटल प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक मशीनों की ओर इशारा करते हैं। डिजिटल Computer माइक्रो Computer मिनी, Computer मेनफ्रेम एवं सुपर Computer के इसी के अन्दर आते हैं।

Computer की विशेषताएं
1. सूचनाओं को Store करना एवं गणना करने की तीव्र गति
2. सूचना को ग्रहण करने एवं उनके भविष्य के उपयोग के लिए Store करके रखने की क्षमता
3. Education के लिए अलग अलग निर्देशों को ग्रहण करने की क्षमता.
4. अपने आंतरिक नियंत्रण अथवा कुछ बाहरी गतिविधियों के नियंत्रण के लिए जाने वाले निर्णयों के लिए सरल लॉजिकल नियमों को उपयोग करने की क्षमता
5. अन्य Computer सिस्टम से Communicate करने की क्षमता
6. गणनाओं को करने के बाद उनका तीव्रता से एवं सही तरीके से विश्लेषण करना.

Computer की संरचना
1. CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट)
2. इनपुट यूनिट
3. आउटपुट यूनिट
4. स्टोरेज डिवाइस
5. कम्युनिकेशन इंटरफेस

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU)

Computer का एक मस्तिष्क होता है। अन्य भाग CPU के साथ डाटा ट्रांसफर करने एवं संपर्क स्थापित करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। इसमें मेन मेमोरी कंट्रोल यूनिट एवं ऐरीथमैटिक लॉजिक यूनिट होते हैं। सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट का मुख्य कार्य निर्देशों अथवा प्रोग्रामों को Excute करना है। इसके अलावा प्रोसेसिंग यूनिट अन्य सभी भागों से मेमोरी इनपुट एवं आउटपुट डिवाइस के कार्यों को कंट्रोल करती है। बड़ी प्रोसेसिंग यूनिट का प्रत्येक प्रोसेसर इसे दिया गया निश्चित कार्य ही करता है।

हार्डवेयर (Hardware)

Computer के भौतिक भागों को हार्डवेयर कहा जाता है। यह भौतिक भाग इलेक्ट्रॉनिक, इलेक्ट्रिकल, मैग्नेटिक, मैकेनिकल अथवा ऑप्टिकल कुछ भी हो सकते हैं ऐसे कुछ भाग हैं माइक्रोप्रोसेसर, इंटीग्रेटेड सर्किट, हार्ड डिस्क, ऑप्टिकल डिस्क, कलर मॉनिटर, Keyboard ,प्रिंटर एवं प्लॉटर आदि।

वैसे तो दिन ब दिन कंप्यूटर में काफी Technological बदलाव आ रहे है। ये ज्यादा सस्ती और ज्यादा performance वाली और ज्यादा capacity वाली बन रही है। जैसे जैसे लोगों की जरुरत बढ़ेगी वैसे वैसे इसमें और भी ज्यादा बदलाव आएगा।

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Loading...

Leave A Reply