क्या है ये ब्लैक फंगस नामक जानलेवा बीमारी?

म्यूकरमाइकोसिस (Mucormycosis) इंफेक्शन एक गंभीर बीमारी है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलती है जिसे आम बोलचाल की भाषा में ब्लैक फंगस (Black fungus) कहा जाता है। ब्‍लैक फंगस मरीज के दिमाग, फेफड़े या फिर स्किन पर भी अटैक कर सकता है। इस बीमारी में कई मरीजों के आंखों की रोशनी जा चुकी है।

0 414

जहाँ पूरा देश कोरोना वायरस की दूसरी लहर को झेल रहा है । वहीं अब एक नया संक्रमण लोगो के बीच आ चुका है जिसे ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस कहते है । इसके आने से लोगों में डर पैदा हो गया है। तमाम अस्पतालों में भर्ती मरीजों में ये सिम्टम्स देखने को मिल रहे हैं। म्यूकरमाइकोसिस के तेजी से बढ़ते मामलों को ध्यान में रखते हुए गुजरात में ऐसे रोगियों के लिए अस्पतालों में अलग वार्ड स्थापित करना शुरू कर दिया है।

आइए जानते हैं ब्लैक फंगस क्या है? इससे बचने के लिए क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए

म्यूकरमाइकोसिस (Mucormycosis) इंफेक्शन एक गंभीर बीमारी है जो शरीर में बहुत तेजी से फैलती है जिसे आम बोलचाल की भाषा में ब्लैक फंगस (Black fungus) कहा जाता है। ब्‍लैक फंगस मरीज के दिमाग, फेफड़े या फिर स्किन पर भी अटैक कर सकता है। इस बीमारी में कई मरीजों के आंखों की रोशनी जा चुकी है।

Black Fungus Infection स्टेरायड, एंटी बायोटिक दवाओं के कारण व अधिक समय तक इंटेंसिव केयर यूनिट (आइसीयू) व हाई डिपेंडेंसी यूनिट (एचडीयू) में रहने से म्यूकारमाइकोसिस (काली फफूंदी या ब्लैक फंगस) कोरोना संक्रमितों की आंखों पर हमला कर रहा है।

ब्लैक फंगस क्या है...
ब्लैक फंगस एक आंतरिक फंगल संक्रमण (internal fungal infection) है, जबकि त्वचा पर होने वाला फंगल इंफेक्शन blemishes, गुच्छे (clusters), गांठ (lumps) या स्किन के बीच (Discoloration of the skin) दिखता है। इसमें स्किन पर खुजली होती है, लेकिन ट्रीटमेंट लेने से ठीक हो जाता है। जबकि ब्लैक फंगस की चपेट में आने से मरीज की मौत भी हो सकती है।

ब्लैक फंगस की शिकायतें अक्सर कोविड रिकवरी के बाद आ रही हैं। इसके कई सिम्टम्स (Black fungus symptoms) हैं, जैसे दांत दर्द, दांत टूटना, जबड़ों में दर्द, दर्द के साथ धुंधला या दोहरा दिखाई देना, सीने में दर्द और सांस लेने में परेशानी होना आदि। इसके अलावा इसमें व्यक्ति आंखें लाल और पलकों पर सूजन दिखने लगी है।

नजल कंजेशन यानी नाक के पास लाल‍िमा पड़ जाना। यूएस सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (US Centre for Disease Control and Prevention) के अनुसार, Mucormycosis की चपेट में आकर करीब 54 प्रतिशत लोगों की मौत हो जाती है । फंगल इन्फेक्शन उन लोगों पे ज्यादा प्रभावी नज़र आ रहा है जो लोग पहले से ही काफी परेशानियां झेल रहे है , ऐसे मरीजों में इसका संक्रमण समस्या पैदा करता नजर आ रहा है जिसके कारण मरीजों की मृत्यु हो जा रही है  ।

 

 

Loading...

Subscribe to our newsletter
Sign up here to get the latest news delivered directly to your inbox.
You can unsubscribe at any time
Leave A Reply